भाभी के साथ बैडरूम में लॉकडाउन था, देवरों ने देख लिया, रस्सी से गला घोंटा / khaniyadhana News

खनियांधाना। खबर जिले के खनियांधाना थाना क्षेत्र के ग्राम सिनावलखुर्द से आ रही है। जहां बीती रात्रि कुएं के पास पडी मिली एक युवक की लाश के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। इस मामले में आरोपी मृतक की प्रेमिका के देवर ही निकले। जिन्होंने आरोपी को भाभी के साथ संदिग्ध हालात में देख लिया था। इस मामले को लेकर पहले भी गांव में पंचायत हो चुकी थी।

जानकारी के अनुसार बीते 22 मार्च को थाना प्रभारी खनियांधाना को सूचना मिली की एक युवक की लाश खेत के पास कुएं के किनारे पर पडी हुई है। इस सूचना पर थाना प्रभारी आलोक सिंह भदौरिया मौके पर पहुंचे। जहां पहले देखा तो युवक के शरीर पर कही भी चोट का निशान नहीं मिला। जिसपर पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना में ले लिया था।

जांच के दौरान सामने आया कि उक्त युवक घर से दुकान पर बीडी लेने गया हुआ था। उसके बाद नहीं लौटा। पुलिस पीएम रिपोर्ट का इंतजार कर रही थी। तभी रिपोर्ट आई कि युवक की गला घोट कर हत्या की गई है। जिसपर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया।

जब पुलिस ने जांच की तो सामने आया कि मतक बालचंद्र पुत्र भगवानदास लोधी उम्र 35 साल निवासी सिनावलखुर्द का गांव के ही प्राण सिंह लोधी की भाभी से अवैध संबंध थे। प्राण सिंह लोधी मजदूरी करने बाहर जाता रहता था। इस दौरान म्रतक का आरोपी के घर भाभी से मिलने आना जाना होता रहता था। यह मामला पहले ही पंचायत में आ चुका था। जिसपर पुलिस का शक प्राण सिंह लोधी और सुरेन्द्र सिंह लोधी की तरफ गया।

जब पता लगाया तो दोनों फरार मिले। पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपीयों को पकडा और पूछताछ की तो वह इस घटना के बारे में कोई भी जानकारी होने से इंकार करने लगे। जिसपर पुलिस ने जब उनसे पुलिसिया अंदाज में पूछताछ की तो वह टूट गए।

आरोपीयों ने पुलिस को बताया कि बालचंद घटना बाले दिन शराब के नशे में धुत्त उसके भाभी के कमरे में था।लेकिन घर वालो ने उसे देख लिया। जिस पर आरोपी प्राण सिंह लोधी और भतीजा सुरेन्द्र लोधी ने मिलकर युवक का रस्सी से गला दबा दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। उसके बाद लाश को छिपाने के उदृदेश्य से उसे खेत में फैंक आए। इस अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने में थाना प्रभारी आलोक भदौरिया,उनिरीक्षक कुलदीप सिंह,सउनि अरूण वर्मा,सउनि अजय पटेल,सहित आरक्षकों भी भूमिका रही।