कैसे होगी कोरोना से जंग: सम्पनं हो गया निकाह सम्मेलन, उल्टे पैर लौटा प्रशासन | Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना से जंग लडने के लिए शिवपुरी को 3 दिन लॉकडाउन कर दिया हैं। धारा 144—2 प्रभावी हैं। प्रशासन लॉकडाउन के नियमो को पालन करने के लिए एफआईआर जैसा कदम उठाने के लिए भी पत्तपर हैं। इसी लॉकडाउन में एक खबर ऐसी आ रही हैं कि पूरा का पूरा 3 दिन के लॉकडाउन की धज्ज्यिा उड गई हैं।

कोरोना संक्रमण को लेकर प्रशासन लगातार बड़े-बड़े दावे कर रही है। लेकिन उनकी ही नाक के नीचे बड़े-बड़े समारोह भी आयोजित हो रहे हैं। ऐसा ही एक मामला आज ईदगाह पर निकाह सम्मेलन  के रूप में सामने आया। जहां आयोजनकर्ता भाजपा नेता हाफिज इरशाद अहमद कादरी ने 16 जोड़ों के निकाह गुपचुप तरीके से ईदगाह पर सम्पन्न करा दिया। जहां सैकड़ों की संख्या में मौजूद लोगों ने भाग लिया और जमकर दाबत का लुप्त उठाया।

खास बात यह है कि आयोजनकर्ता ने किसी भी तरह की कोई भी अनुमति प्रशासन से नहीं ली थी। वहीं मौके पर पहुंची प्रशासनिक  और पुलिस टीम ने भी आयोजन को रोकने की हिम्मत नहीं जुटा पाई और बिना कोई कार्रवाई किए मौके से प्रशासन के नुमाइंदे वापस आ गए।

अब सवाल यह उठता है कि बाजारों में लोगे के निकलने पर पाबंदी है और उन पर चालानी कार्रवाई भी की जा रही है। लेकिन इतनी बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति के बाद भी आयोजकों पर कोई कार्रवाई न होना प्रशासनिक कार्यक्षमता पर प्रश्रचिन्ह खड़ा करती है।

जानकारी के अनुसार मुस्लिम जमात की इज्जितमाई शादी सम्मेलन का आयोजन शादी सम्मेलन कमेटी के अध्यक्ष हाफिज इरशाद अहमद कादरी और उपाध्यक्ष शूफी मो. यूनुस बाबा के आव्हान पर किया गया। बताया जाता है कि निकाह कराने के लिए 16 जोड़ों के पंजीयन कमेटी द्वारा किए गए थे,जो रात्रि में ईदगाह में सम्पन्न हुआ।

खास बात यह है कि ईदगाह के अंदर टेंट लगाकर यह सम्मेलन आयोजित किया और ईदगाह के मुख्य दरबाजों पर ताले लगा दिए गए। जिससे किसी को भी आयोजित कार्यक्रम की भनक न लग सके और आज सुबह निकाह पढऩे के बाद आयोजन स्थल पर दाबत का कार्यक्रम रखा गया। जहां पर बताया जाता है कि सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे।

जबकि इस समय कोरोना वायरस के चलते धारा 144 लागू कर दी गई है और शहर को लॉकडाउन भी किया गया है। लेकिन इन सबसे निश्चिंत होकर वहां सैकड़ों की संख्या में लोगों को एकत्रित कर निकाह की पार्टी होने की खबरे आ रही हैं और जब प्रशासन मौके पर पहुंचा तो उन्हें ईदगाह में प्रवेश नहीं दिया गया। इस कारण प्रशासनिक अधिकारी बिना कोई कार्रवाई किए। वहां से वापस आ गए,लेकिन कलेक्टर अनुग्रह पी का कहना हैं कि कार्यवाही के लिए विचार चल रहा हैं।  

इनका कहना है-
यह बात सही है कि हमने आयोजन की कोई अनुमति नहीं ली है। लेकिन निकाह आयोजन पूर्व से निर्धारित था। लेकिन कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन की स्थिति के कारण लोगों ने अपने जोडों के निकाह संबंधी सभी कार्यक्रम घरों पर आयोजित किए और जो लोग वहां एकत्रित हुए उन्हें सिर्फ सामान देने के लिए वहां बुलाया गया था। टेंट भी हटा दिया गया है।
हाफिज इरशाद अहमद कादरी

एडीएम साहब से मेरी बात हुई थी, तो उन्होंने बताया है कि उन्हें अनुमति दी गई थी कि 20 लोगों से अधिक वहां एकत्रित न हो। अगर उन्होंने अनुमति के विपरित निकाह कार्यक्रम आयोजित किया है तो उसे दिखवाकर जो कार्रवाई होगी वह करेंगे।
राजेंश सिंह चंदेल, एसपी शिवपुरी

मौके पर एसडीएम को भेजा गया है, जो यह देखेंगे कि अनुमति दी गई है या नहीं। उसके बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी।
आरएस बालौदिया,एडीएम शिवपुरी

कलेक्टर अनुग्रह पी ने कहा आयोजन कराने की कोई परिमिशन नही दी,उनको खतरा हो गया हैं। कार्रवाही के लिए विचार किया जा रहा हैं।