CORONA: मासूमों की जान दाव पर लगाकर संचालित हो रहे है स्कूल और कोचिंग

शिवपुरी। देशभर में कोरोना वायरस को लेकर केन्द्र व राज्य सरकारें जागरूकता अभियान चला रहीं हैं।  लेकिन शिवपुरी में इसके विपरित कार्य हो रहे हैं। 31 मार्च तक स्कूल और कॉलेजों सहित कोचिंगों, पार्कों के साथ-साथ बहुत से संस्थान बंद करने के आदेश शासन द्वारा दिए गए हैं।

लेकिन इन आदेशों को दरकिनार करते हुए शहर के तुलसी नगर में संचालित न्यू संजीव कॉन्वेंट स्कूल अवकाश के दिनों में भी संचालित हो रहा है। जहां छोटे-छोटे बच्चों की जान को दांव पर लगाकर जहां शिक्षक उन्हें पढ़ा रहे हैं। इसी स्कूल के पास एक निजी मकान में कोई सुनीता मैडम नाम की महिला नन्हें-मुन्हें बच्चों को कोचिंग पढ़ा रहीं थी।

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित करते हुए कोरोना वायरस जैसी महामारी से लडऩे के लिए जागरूकता के साथ-साथ जनता कफ्र्यू लगाने की अपील कर रहे हैं और बच्चों व बुजुर्गों को घर में रहने की सलाह दे रहे हैं। यहां तक  कि प्रशासन ने भी स्कूल कॉलेजों को बंद करने का निर्देश जारी कर दिया है। लेकिन इसके बाद भी शहर के कई स्थानों पर स्कूल और कोचिंग संचालित हैं।

प्रशासन ने यह निर्णय कोरोना वायरस जैसी महामारी से बचने के लिए एतिहातन जारी किए हैं। इसके पीछे सोच है कि लोगों की भीड़ जमा न हो और यह महामारी बढ़ा रूप न ले। अभी तक पूरे प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित कोई भी केस सामने नहीं आया है। जिसे लेकर जागरूकता फैलाई जा रही है। लेकिन जागरूकता फैलाने वाले ही उल्लंघन कर रहे हैं। जिससे यह महामारी शहर में प्रवेश कर सकती है और इसका परिणाम काफी भयानक हो सकता है।

इनका कहना है-
अवकाश के बाद भी स्कूल और कोङ्क्षचंग संचालित हो रहे हैं तो मौके पर अधिकारियों को पहुंचाकर कार्रवाई कराती हंू।
अनुग्रह पी, कलेक्टर शिवपुरी

प्रदेश सरकार ने 31 मार्च तक अवकाश घोषित किया है। इसके बाद भी अगर स्कूल और कोचिंग चल रहीं हैं तो मैं मौके पर बीईओ को पहुंचाकर कार्रवाई कराता हूं।
अजय कटियार, जिला शिक्षा अधिकारी शिवपुरी