स्मैक के नशे ने लील ली एक और युवक की जिदंगी, फांसी पर झूला युवक | Shivpuri News

शिवपुरी। शहर कोतवाली के अंतर्गत आने वाले गांधी कॉलोनी में एक युवक ने स्मैक के नशे लत के कारण फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया। बताया तो यह भी गया है कि मृतक युवक परिवार में इकलौता लड़का था। पुलिस ने फरियादी पिता की रिपोर्ट पर से मामला संज्ञान में ले लिया हैं।

जानकारी के अनुसार सुभम मंगल गांधी कॉलोनी में सुभाष अरोरा के मकान में किराए से रहता था। शुभम को विगत एक वर्ष से अपने मित्रों के कारण स्मैक की लत लग गई थी। इसकारण स्मैक खरीदने के लिए लोगों से ऊधार पैसे लेता था और स्मैक का नशा करता। उसका पिता इस उधार को मेहनत मजदूरी करके चुकाता था।

युवक का पिता पेशे से ट्रक ड्रायवर हैं और पत्नि के देहांत के बाद वह अपने दोनों बच्चों को पाल रहा था कि अचानक ही इस हादसे में उसने बुढ़ापे का सहारा खो दिया। जिसका एक मात्र कारण इस शहर को दीमक की तरह चाट रहा स्मैक का नशा हैं। जिसकी गिरफ्त में आकर शुभम मंगल को अपनी जान देना पड़ी।

बताया जाता है कि कल शुभम का जन्म दिन था। जो उसके परिवार ने रात को मनाया। सुबह शुभम को किसी काम से झांसी जाना था। उसके पिता ने इस हेतु कुछ पैसे भी दिए और अपना ट्रक लेकर माल भरने स्टेशन चला गया। जिस समय वह फांसी से लटका घर में उसकी बहिन भी थी जो संभवत: सो रही थी और उसने अंदर आंगन में जाकर चुप चाप फांसी लगा ली।

जब उसकी बहिन उठी तो उसने फांसी पर लटके अपने भाई को देखकर शोर मचाया और मोहल्ले के लोगों ने उसे उतार कर अस्पताल पहुंचाया जहां उसे मृत घोषित कर दिया।  सूत्रों के अनुसार इन दिनों पुन: शहर में स्मैक का कारोबार तेजी से जड़ पकड़ गया हैं। और पुरानी शिवपुरी से संचालित होने वाले इस कारोबार में पूरे शहर में अपने कैरियर बना रखे हैं। जिनके माध्यम से किशोरों को स्मैक सफलाई होती हैं।

मोबाईल के कॉल डिटेल की होना चाहिए जांच

मृतक शुभम का कल जन्म दिन था और उसके पिता तथा रिश्तेदारों ने उसका रात को जन्म दिन मनाया था। सुबह 8:30 बजे अचानक ऐसा क्या हुआ कि वह फांसी से लटक गया। सूत्रों का कहना है कि यदि इसके मोबाईल को ईमानदारी के साथ साईबर ब्रांच खगाले तो इसमें बो सारी जानकारी उपलब्ध हो जाएगी। जिसमें स्मैक प्रदाताओं के नाम और इसके साथ बैठकर नशा करने वालों के नाम ऊजागार हो सकते हैं। मगर सवाल यह है कि क्या पुलिस ऐसा करेगी।