गोवर्धन परक्रिमा मार्ग में बांके बिहारी सेवा समिति का भंडारा 5 मार्च को

शिवपुरी। बांके बिहारी सेवा समिति द्वारा हर साल की तरह इस बार भी गोवर्धन परिक्रमा मार्ग में भक्तों को प्रसादी का वितरण किया जाएगा। इसके लिए समिति द्वारा भंडारा किया जाएगा। भंडारे को लेकर नबाव साहब रोड पर स्थित राजेंद्र मेमोरियल पब्लिक स्कूल में समिति की बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक की शुरूआत सदस्यों द्वारा मां सरस्वती एवं कृष्णा बिहारी को माल्यार्पण कर शुरू की गई। बैठक में समिति के संस्थापक पंडित कृष्ण बल्लभ मुदगल ने बताया कि बांके बिहारी समिति का यह चौथा भंडारा है जो 5 व 6 मार्च को गोवर्धन परिक्रमा मार्ग में दौलतराम चैरिटेबल आश्रम पर किया जाएगा।

दिलीप गुप्ता, हरिओम शर्मा कोषाध्यक्ष ने बताया कि भंडारे में सबसे पहले अभिषेक, छप्पन भोग, संतों को भोजन, कन्याओं को भोजन के बाद भंडारे का वितरण किया जाएगा। समिति सदस्य महेश पाण्डेय, अनिल गुप्ता, पवन जैन, रीतेश बंसल व रामकुमार शर्मा ने बताया कि समिति का कोई भी सदस्य किसी के नाम से रसीद नहीं काटेगा, व्यक्ति के घर जाकर चंदा नहीं लेगा।

भंडारे का आयोजन केवल समिति के सदस्यों द्वारा ही किया जाएगा। भंडारे के दौरान प्रत्येक सदस्य की चार-चार घंटे की सेवा ली जाएगी। तैयारियों को लेकर मौजूद सदस्यों को जिम्मेदारी सौंपी गई।

इस अवसर पर उदय यादव, हरिहर शर्मा, श्रीनिवास उपाध्याय, मदन वर्मा, सुरेश पाठक, हेमंत शर्मा, विवेक शर्मा, विजय नामदेव, उमाशंकर शर्मा, कल्याण वर्मा, पंकज गुप्ता, मनोज खत्री, अरविंद भार्गव, योगेश मुदगल, सुरेंद्र वर्मा, विवेकानंद शर्मा पटवारी, महेंद्र शर्मा, शिवसिंह रावत, राजेंद्र श्रीवास्तव, रविशंकर श्रीवास्तव, रविशंकर शर्मा, हीरालाल शर्मा, बृजमोहन धाकड़, कपिल सहगल, नीरज भार्गव आदि मौजूद थे।

भंडारे के साथ जल मंदिर में बैठक संपन्न 

प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी आगामी 7-8 मार्च को श्रीगोवर्धन धाम में चतुर्थ भण्डारा आयोजित करने को लेकर विशेष बैठक स्थानीय जल मंदिर में रविवार को आयोजित की गई। बैठक के बारे में जानकारी देते हुए गौरव गुप्ता ने बताया कि दूर-दूर से आने वाले हजारों धर्मप्रेमीजनों की सेवा के लिए शिवपुरी वालो का चतुर्थ विशाल भंडारा आगामी 7 व 8 मार्च 2020 को श्री गोवर्धन धाम में स्थान. कोमल आश्रम, एबी परिक्रमा मार्ग दान घाटी, गिरार्जी मथुरा में आयोजित किया जाएगा।

इसे लेकर व्यापक तैयारियों हेतु सभी ने सहमति व्यक्त की और अपने विचार भी दिए ताकि भण्डारे में किसी प्रकार की कोई कमी ना रहे और सहयोग प्रदान करने वालों का भी कार्यक्रम में योगदान हो इस पर चर्चा की गई। बैठक उपरांत सभी समिति के सहयोगजीनों के लिए स्नेहभोज का आयोजन रखा गया जिसमें भाग लिया। [