जिस तरह योग,ध्यान, शिक्षा जीवन कि लिए महत्वपूर्ण, उसी तरह खेल भी आवश्यक है: अनिरूद्ध खानवलकर | Pichhore News

पिछोर। खबर जिले के पिछोर में चल रहे 12 दिवसीय स्वामी विवेकानंद जन्मोत्सव कार्यक्रम की है। जहां छटवें दिवस जूनियर वर्ग का सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें विभिन्न विद्यालयों के लगभग एक सैकडा  छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया कार्यक्रम में आबकारी अधिकारी अनिरुद्धध खानविलकर ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि जिस तरह योग ध्यान शिक्षा जीवन के लिए महत्वपूर्ण है।

उसी तरह खेल भी जीवन के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इसलिए हमें अपने जीवन में खेल को भी जगह देना चाहिए जिस से शारिरिक स्वास्थ्य और मानसिक विकास होता है खेल को भी स्वामी विवेकानंद ने जीवन का हिस्सा बताते हुए युवाओं को खेल मे रुचि रखने की प्रेरणा प्रदान की थी।

कार्यक्रम मे आगे संतोष चौधरी ने भी स्वामी विवेकानंद जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बच्चों को स्वच्छ जीवन शैली से कार्य करने की प्रेरणा प्रदान की कार्यक्रम मे पूनम सोनी, मनीष गुप्ता राम गोपाल कुशवाह उपस्थित रहे। सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रज्ञा बौद्ध आयुष सेन ग्रुप कामिनी सिमरिया ग्रुप मुस्कान लिटोरिया  आकाशी लिटौरिया स्नेहा शर्मा  की प्रस्तुतियो का चयन किया गया जिन्हें 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जयंती कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा।