PHE के कारण 150 गांव के शौचालय बंद, लोग खुले में शौच कर रहे हैं | Shivpuri News

शिवपुरी। जिले के कई गांवो में स्वच्छता अभियान को बर्बाद कर रहा हैं पीएचई विभाग,पीएचई की लापरवाही के कारण कई गांवो कें शौचालय खण्डर में तब्दील होते जा रहे है। बताया जा रहा हैं कि जिले के 125 गांवो में नल जल योजना ख्रराब पडी हैं। ग्रामीण पीने के पानी और आवश्यक कामो में उपयोग आने वाला पानी सिर पर ढो रहे हैं। इस कारण ग्रामीणो ने शौचालयो का उपयोग बंद कर दिया हैं।

जिले भर के ग्रामीण क्षेत्रो में ग्रामीणो को प्रत्येक घर को पानी मिल सके, इसके लिए गांव-गांव में नल जल योजना बनाई गई। इन योजनाओ के क्रियान्वयन के लिए जिले में करोडो रूपया फूका गया। इससे जिले के कई गांवो में नल जल योजना स्वीकृत हुई,जिससे ग्रामीणो को कुछ दिन पानी मिला।

लेकिन उसके बाद इन योजनाओ में कोई न कोई कमी आ गई,जिससे यह योजनाए बंद हो गई और ग्रामीणो को पानी नही मिल रहा। जिले में 265 गांवो में नलजल योजना संचालित हैं,लेकिन इनमे से लगभग 125 गांवो में यह योजना बंद पडी हैं,जिससे ग्रामीणो के घरो में पानी नही पहुंच रहा हैं,और इसका सीधा-सीधा असर स्वच्छ भारत अभियान पर पड रहा हैं।  

गणेश खेडा में ठेकेदार ने काम बंद किया

खोड इलाके के गणेशखेडा में तो नल जल योजना का काम ही अधूरा छोड दिया हैं,यहां पाईप लाईन तक नही बिछाई गई,जबकि कुछ इलाकों में मुख्य लाईन तक नही बिछाई गई हैंर् जबकि कुछ इलाको में मुख्य लाईन बिछाकर छोड दी गई। वही टंकी का निर्माण भी अधूरा हैं,जबकि इसे अभी तक पूरा हो जाना चाहिए था। बताया जा रहा हैं कि ठेकेदार का समय पर भुगतान न होने के कारण उसने काम बंद कर रखा हैं।

बैराड में 25 गांवो में बंद पडी है योजना

बैराड इलाके के 25 गांवो में नल जल योजना ठप्प हैं।इसका सीधा-सीधा असर स्वच्छता अभियान पर पड रहा हैं,ग्रामीणो ने शौचालयो का उपयोग बंद कर दिया हैं,जब पीने और रोजमरा के लिए पानी सिर पर ढोना पड रहा है तो शौचालय के लिए पानी कहां तक लाए।

पोहरी इलाके में भी हालत खराब

पोहरी के ग्रामीण क्षेत्रो में भी यही हाल हैं। यहां के लगभग 20 गांवो में नल जल योजना पूरी तहर बंद हैं। ग्रामीणो के सामने पूरी तरह से बंद हैं। ग्रामीणा के सामने पानी की समस्या खडी हो गई हैं। ग्रामीणो को गांव से 2 या 3 किमी दूर जाकर पानी लाना पड रहा हैं। ग्रामीणो का कहना हैं कि कही मोटर फुंक गई तो की बिजली कनेक्शन कट गए। इसके चलते यह योजना बंद पडी हैं।

कोलारस अनुविभाग में भी योजना पर संकट

कोलारस और बदरवास के ग्रामीण क्षेत्रो में भी योजना का बुरा हाल हैं। कोलारस के 22 गांव तो बदरवास के 26 गांव में नल योजना पूरी तहर से बंद पडी हुई हैं और ग्रामीणो को पानी के लिए परेशान होना पड रहा हैं। यहां के गांवो में कही तो बजट न होने के कारण मोटरे खराब पडी हुई हैं।जिन्है सही नही किया जा रहा हैं। जिसके चलते योजना बंद पडी हुई हैं।

बैठको में दिए प्रभारी मंत्री ने निर्देश

जिले में अभी हाल ही में बैठको में प्रभारी मंत्री ने निर्देश दिए थे कि जिन गांवों में नल जल योजना बंद पडी हैं,उन्हैं तत्काल से शुरू कराए। जिले में कई गांवो में नल जल योजना बंद पडी हैं। जिसकी शिकायते ग्रामीण हर स्तर पर कर रहे हैं,लेकिन अफसरो ने इस ओर कोई ध्यान नही दिया हैं।

इनका कहना हैं
जिले में कई गांवो में नल जल योजनाए बंद हैं। हम उन्है जल्द शुरू कराने जा रहे हैं। जहां मोटरे खराब है उन्है बदला जाएगा। जहां लाईन ठीक नही हैं उसे दुरूस्त नल जल योजना को शुरू करा रहे हैं।