प्रदेश में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किया जाएगा | Shivpuri news

शिवपुरी। जनसम्पर्क, विधि-विधायी कार्य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, विमानन, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि प्रदेश में कमल नाथ सरकार सुशासन की अवधारणा को मूर्त रूप दे रही है। इसके लिए प्रशासनिक व्यवस्थाओं में पारदर्शिता लाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि सरकार लोकतंत्र के चैथे स्तम्भ ''मीडिया'' को सशक्त बनाने के लिए वचनबद्ध है और निर्भिक तथा निष्पक्ष पत्रकारिता को बढावा देने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है। श्री शर्मा ने कहा है कि सरकार द्वारा शीघ्र ही पत्रकार सुरक्षा कानून भी लागू किया जाएगा।

मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश में सुशासन को स्थापित किये जाने में सूचना प्रौद्योगिकी का बेहतर उपयोग किये जाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में दूरसंचार, इंटरनेट सेवा, अवसंरचना प्रदाताओं पर वायर लाइन या वायरलेस आधारित वाइस या डाटा पहुँच सेवाएँ उपलब्ध कराने के लिए अधोसंरचना की स्थापना को सुगम बनाने के लिये प्रक्रिया निर्धारित की गयी है।

प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने के लिए आईटी पॉलिसी में संशोधन कर इसे अधिक आकर्षक बनाया गया है। राज्य में नये डाटा सेंटर की स्थापना में सहयोग प्रदान करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी की निवेश प्रोत्साहन नीति में संशोधन किया गया है।

डाटा सेंटर क्षेत्र में नवीन निवेश को आकर्षित करने के लिए भूमि बैंक बनाये जाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। मैप-आईटी के सहयोग से विभिन्न विभागों के इंटरनल वर्क-फ्लो एवं कम्प्यूटरीकरण का कार्य प्रगति पर है।

म.प्र. स्टेट इलेक्ट्रॉनिक्स डेव्हलपमेंट कॉर्पोरेशन द्वारा स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क ''स्वान'' के उन्नयन का कार्य किया जा रहा है। प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नवीन एवं प्रभावी लागत तकनीकी का प्रयोग किया जा रहा है।

किसानों को बिजली देने की समय सारणी तय करेंगे प्रभारी मंत्री: ऊर्जा मंत्री श्री सिंह
शिवपुरी ब्यूरो। किसानों को रबी सीजन में 10 घण्टे बिजली देने की समय-सारणी जिले के प्रभारी मंत्री योजना समिति की बैठक में तय करेंगे। ऊर्जा मंत्री श्री प्रियव्रत सिंह ने यह जानकारी दी है।

उन्होंने बताया है कि प्रभारी मंत्रियों से अनुरोध किया गया है कि योजना समिति की बैठक में विद्युत प्रदाय के घंटों की समीक्षा करें। उन्होंने कहा है कि समीक्षा के बाद जिले में किसानों की आवश्यकतानुसार उन्हे 10 घंटे निरंतर अथवा 6 घंटे तथा 4 घंटे की समय सारणी निर्धारित करने के लिए संबंधित अधीक्षण यंत्री को निर्देशित करें। श्री सिंह ने कहा है कि अधीक्षण यंत्रियों को निर्देशानुसार समय-सारणी लागू करने के निर्देश दिये गये हैं।

ऊर्जा मंत्री श्री सिंह ने कहा है कि किसानों को 10 घण्टे बिजली देने के लिए विभाग कृत संकल्पित है। उन्होंने बताया है कि वर्तमान में कृषि कार्य के लिए 2 समय-सारणी में बिजली दी जा रही है।

प्रथम समय-सारणी के अनुसार किसानों को 24 घण्टे में 6 घण्टे और 4 घण्टे की अवधि के लिए बिजली दी जाती है। इस समय को प्रति सप्ताह बदल दिया जाता है। दूसरी समय-सारणी में किसानों को 24 घण्टे में निरन्तर 10 घंटे बिजली दी जाती है। इसका भी समय प्रति सप्ताह परिवर्तित कर दिया जाता है।