ओल्ड ऐज होम: 65 वर्षीय के कपड़े उतारवाए, विरोध किया तो बाहर निकाल दिया

करैरा। खबर जिले के करैरा अनुविभाग के सिरसौद गांव के ओल्ड ऐज होम से आ रही हैं,बताया जा रहा हैं कि सिरसौद गांव के संचालित ओल्ड ऐज होम में रह रहे एक 65 वर्षीय बुर्जग के आश्रम संचालक ने एक कमरे में कपडे उतरवाने का प्रयास उसके पोरूष चैक करने के कारण किया।

बुर्जग ने बात नही मानी तो उसको आश्रम से बहार किया। 2 दिन से उक्त बुर्जग खुले आसमान के नीचे रात गुजरने को मजबूर हैं। पुलिस ने भी 24 घंटे में कोई एक्शन नही लिया हैं,तो वही आश्रम संचालक ने बुर्जग के चरित्र पर सवाल उठाए हैं।


जानकारी के अनुसार सिरसौद गांव में संचालित ओल्ड ऐज होम में निवास कर रहे 65 वर्षीय राधेश्याम (बदला हुआ नाम) दाे साल से गांव में वृद्धाश्रम में रह रहे थे। काशीराम ने बताया कि उनकी कोई संतान नहीं है। चार महीने पहले ही वृद्धाश्रम में नया संचालक आया है।

राधेश्याम को गुरुवार की शाम को वृद्धाश्रम से बाहर निकाल दिया। लोगों ने वजह पूछी तो उन्हाेंने ने बताया कि उसे कमरे में बंद कर दिया और गाली गलौज की, फिर कहने लगे कि कपड़े उतारो। कपड़े उतारने का विरोध करने पर वृद्धाश्रम से बाहर निकाल दिया।

गुरुवार-शुक्रवार की रात राधेश्याम वृद्धाश्रम के नजदीक मंदिर की पुलिया पर सोते रहे। इस दौरान पास ही नाश्ता होटल संचालक ने बुलाकर रात में अपने यहां पनाह दी। उसे खाने के लिए दाे उबले हुए आलू दिए। शुक्रवार को गांव में एक जगह भंडारा था, जहां उसने भोजन किया। दूसरे दिन भी काशीराम को वृद्धाश्रम में पनाह नहीं दी।

बुजुर्ग पर सफाईकर्मी महिला पर गलत टिप्पणी का आरोप

वृद्धाश्रम संचालक दीपक श्रीवास्तव का आरोप है कि राधेश्याम ने पौंछा लगा रही सफाईकर्मी महिला को लेकर गलत टिप्पणी की थी। साथ ही वे चिलम पीकर आश्रम में आते हैं। इसी व्यवहार की वजह से राधेश्याम को वृद्धाश्रम से निकाला गया है।

इस संबंध में राधेश्याम का कहना है कि उन्होंने कभी किसी पर टिप्पणी नहीं की। संचालक ही शराब पीकर आता है और गलत व्यवहार करता है। वहीं वृद्धाश्रम में जाकर पूछने पर दूसरे बुजुर्ग भी राधेश्याम के व्यवहार पर संदेह नहीं जता रहे।वही इस मामले की शिकायत बुर्जग ने आमोला थाने में भी की थी,लेकिन उनकी सुध लेने कोई नही आया।

इस मामले में जांच कराकर कार्रवाई करेंगे

वृद्धाश्रम में यदि बुजुर्ग के साथ गलत हो रहा है तो हम जांच कराएंगे। इस मामले में कार्रवाई कर बुजुर्ग के साथ न्याय करेंगे।
गौरीशंकर बैरवा, प्रभारी तहसीलदार, तहसील करैरा