GST चोरी की आशंका छर्च वालों की तीनो फर्म पर छापा | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। जीएसटी चोरी की आंशका के चलते जीएसटी की एंटी इवेजन ब्यूरो ग्वालियर की टीम ने सुबह 11 बजे शहर में छर्च वालो के नाम से जाने वाले तीनो भाईयो की फर्मो पर छापामार कार्रवाई को अंजाम दिया। सुबह से लेकर शाम तक चली कार्रवाई में छापामार टीम को खुदरा कागज मिले हैं,लेकिन टीम कितना टैक्स चोरी किया गया हैं उसका आकलन नही कर सकी है।

बताया जा रहा हैं कि अभी फर्मो के मुनीम नही होने के कारण लेनदेन का मिलान नही हो सका हैं इस कारण कितना टैक्स चोरी किया है या नही किया है मिलान होने के बाद ही क्लीयर होगा। जानकारी के मुताबिक जीएसटी चोरी रोकने के लिए गठित एंटी इवेजन ब्यूरो ग्वालियर की टीम बुधवार की सुबह 11 बजे शिवपुरी पहुंची। यहां विष्णु कुमार विनोद कुमार, अशोक ट्रेडर्स और अग्रवाल ऑइल के नाम से तीनों व्यापारी भाईयों की फर्म पर छापामार कार्रवाई शुरू कर दी। यह कार्रवाई शाम 6 बजे तक चली। टीम में जीएसटी डिप्टी कमिश्नर मिक्की अग्रवाल, असिस्टेंट कमिश्नर विजय रावत और दुबे सहित 15 से ज्यादा लोगों का स्टाफ मौजूद रहा।

लेकिन देर शाम तक जीएसटी चोरी को लेकर अधिकारी स्पष्ट जवाब नहीं दे पाए। हालांकि अधिकारियों ने बताया कि तीनों फर्मों का टर्न ओवर 15 से 20 करोड़ रुपए का रहता है। जीएसटी चोरी कितने की गई, यह दस्तावेजों की जांच के बाद ही स्पष्ट रूप से कहा जा सकेगा।

लूज दस्तावेज मिले, मुनीम के छुट्टी से लौटने पर होगा जीएसटी चोरी का आंकलन
जीएसटी ग्वालियर के ज्वाइंट कमिश्नर यूएस वैश्य का कहना है कि छापामार कार्रवाई में तीनों फर्मोंं के लूज दस्तावेज मिले हैं। जिससे जीएसटी चोरी सामने आ रही है। कार्रवाई के दौरान फर्म संचालकों ने मुनीम के छुट्‌टी चले जाने की बात कही है। एक-दो दिन में मुनीम लौट आएगा, उसके बाद खाते में हुए लेनदेन का दस्तावेजों से मिलान के आधार पर जीएसटी चोरी सामने आ जाएगी।

चोरी पाए जाने पर दोगुना जीएसटी वसूला जाएगा
तीनों भाईयों की व्यापारिक फर्मों पर जीएसटी चोरी को लेकर ज्वाइंट कमिश्नर यूएस वैश्य का कहना है कि जांच पड़ताल जारी है। जीएसटी चोरी की राशि स्पष्ट होने पर दो गुना जीएसटी वसूलने की कार्रवाई होगी। जीएसटी चोरी की रकम ज्यादा होने पर गिरफ्तारी तक की जाती है।