पंचायत चुनाव: इस बार 59 प्रतिशत यूथ जाएगा बूथ की ओर यही तय करेगा अपनी ग्राम सरकार- Shivpuri News

शिवपुरी। पंचायत चुनाव का बिगुल फूक गया हैं,प्रशासन ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। 25 जून से गांव के 'सरकार' चुनने के लिए मतदान शुरू हो जाएगा। इस बार गांव की सरकार कैसी होगी इसका फैसला युवाओं के हाथ में होगा। जिस तरफ युवा मतदाता का रूझान होगा गांव के 'सरकार' वही बनेंगे। ऐसे में यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी की गांव का भविष्य कैसा होगा यह भी गांव का युवा मतदाता ही तय करेगा।

इस बार जो पंचायत चुनाव होने जा रहे हैं उसमें कुल मतदाताओं की संख्या 9 लाख 77 हजार 932 हैं। इन मतदाताओं में से युवा मतदाताओं की संख्या 5 लाख 74 हजार 693 है। इस लिहाज से मतदाता सूची में 59 प्रतिशत युवा मतदाता हैं। ऐसे में जिस प्रत्याशी की तरफ युवा मतदाताओं का रुझान होगा उस प्रत्याशी के द्वारा गांव का प्रतिनिधित्व करना तय हो जाएगा। अगर इस वर्ग के मतदाताओं का चुनाव में रुझान नहीं रहा तो मतदान का प्रतिशत गिरना भी तय है।

पहली बार मतदान करेंगे एक लाख से अधिक मतदाता

अगर चुनाव कार्य से जुड़े सूत्रों की मानें तो पिछली बार हुए विधानसभा चुनावों के उपरांत ग्रामीण अंचल में एक लाख से अधिक मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में बढ़ाए गए हैं। ऐसे में इस बार होने वाले पंचायत चुनावों में एक लाख से अधिक मतदाता ऐसे होंगे जो पहली बार मतदान करने मतदान केंद्र तक जाएंगे।

गोदी में ले जाने पड़ेंगे 12 हजार से ज्यादा मतदाता

अगर मतदाता सूची पर नजर दौड़ाएं तो जिले भर में 12 हजार से अधिक मतदाता ऐसे भी हैं जिन्हें मतदान करवाने के लिए घर से मतदान केंद्र तक ले जाने के लिए गोदी में उठाकर ले जाना पड़ेगा। 80 वर्ष की आयु के आसपास के यह मतदाता खुद के बूते मतदान करने तक नहीं जा सकेंगे। अगर इस वर्ग के मतदाताओं को प्रेरित कर घर से मतदान के लिए नहीं ले जाया गया तो भी मतदान का प्रतिशत प्रभावित होना तय है।

खनियाधाना में हर वर्ग के सर्वाधित मतदाता

बात अगर जनपद के आधार पर मतदाताओं की करें तो जिले की खनियाधाना जनपद सभी जनपदों में सबसे बड़ी जनपद है। वहां हर आयु वर्ग के सर्वाधित मतदाता हैं और इसके बाद पिछोर जनपद का में। खास बात यह है कि यही दोनों जनपद ऐसी हैं जहां पर चुनावों के दौरान सर्वाधिक क्रिटिकल मतदान केंद्र होते हैं।