जनसुवाई: पति नपुंसक था इसलिए बेटी फांसी पर लटकी, अवैध संबंध थे पत्नि के मोबाइल उगल देगा सच्चाई- Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी शहर के झीगुंरा में रहने वाली विवाहिता वर्षा कुशवाह ने सोमवार की शाम अपने ही घर में फांसी पर लटककर आत्महत्या कर ली थी। इस आत्महत्या के बाद मायके और ससुसराल के पक्ष आमने सामने आ गए है। मृतिका की मां ने अपनी बेटी की मौत का कारण अपने दमाद की नपुंसकता को बताया वही पति ने कहा की मेरी पत्नि के अपने मौसेरे भाई से अवैध संबंध थे।

मंगलवार को मृतिका की मां ने ASP प्रवीण कुमार भूरिया को शिकायती आवेदन सौंपा कि उसकी बेटी को पैसों के लिए ससुराल वाले प्रताड़ित करते हैं। मृतिका की मां का कहना है कि उसकी बेटी ने उसे बताया था कि उसका पति नपुंसक है और वह इसका इलाज करा रहे हैं।

ससुराल वाले इलाज के लिए समय-समय पर उसकी बेटी से पैसे मंगवाते थे, जो हम देते रहते थे। लेकिन इस बार उन्होंने दो लाख रुपए मंगवाए, रकम बड़ी थी इस बार इसलिए हमने देने से मना कर दिए। इसी के चलते ससुरालवालों ने मेरी बेटी को मार डाला।

हालांकि, इस संबंध में पति ने बताया कि उसे कोई बीमारी नहीं है और न ही उसका कोई ऐसा इलाज चल रहा है। उसका कहना है कि उसने कभी पैसे नहीं मंगवाए हैं। पत्नी ने आत्महत्या क्याें कि उसे भी इसका कारण नहीं पता।

मोबाइल उगलेगा आत्महत्या की वजह

मामले में पति ने पत्नी और उसके शिवपुरी मेडीकल कॉलेज में पदस्थ उसके एक रिश्तेदार पर अवैध संबंधों का शक जताया है। पति के अनुसार पत्नी की आत्महत्या का राज उसके मोबाइल में है। पति का कहना है कि आत्महत्या से पहले उसकी पत्नी से बात हुई थी। मेरे अलावा भी उसने किसी अन्य व्यक्ति से बात की थी।

इसके अलावा पति ने मौसेरे भाई पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो सबसे पहले आत्महत्या वाली जगह पहुंचा और वहां पहुंचते ही उसने मोबाइल से कॉल हिस्ट्री और वीडियो कॉल हिस्ट्री डिलीट की। राकेश के अनुसार वर्षा के मोबाइल से ही आत्महत्या की वजह और संबंधों की सच्चाई सामने आएगी।

किसी ने मारा नहीं
मृतिका के चेहरे और शरीर पर मारपीट के निशान भी दिखाई दे रहे हैं। इस बारे में राकेश का कहना है कि उसे किसी ने मारा-पीटा नहीं है। दो दिन पहले उसे रेशम वाली देवी आईं थी। इसी के चलते वर्षा के शरीर पर यह निशान हैं।

ASP प्रवीण सिंह भूरिया का कहना है कि हम मामले की जांच करवा रहे हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जो भी तथ्य सामने आएंगे और परिजन जो बयान देंगे उसके आधार पर जांच की जाएगी। और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।