वाह! रे प्रशासन! रात्रि के अंधेरे में गंदे तालाब में हुआ मां की प्रतिमाओं का विसर्जन, लाइट भी नहीं लगवा पाया प्रशासन- khaniyadhana News

खनियाधाना। जिले के खनियाधाना में दुर्गापूजा की समाप्ति के बाद मां दुर्गे की प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला कल दोपहर से शुरू हो गया। विभिन्न पूजा समितियों और श्रद्धालुओं ने धार्मिक रीति रिवाज का पालन करते हुए मां दुर्गा की प्रतिमाओं को धुवैया तालाब पर प्रवाहित किया गया धोबिया तालाब पर नगर पालिका प्रशासन नगर पंचायत सीएमओ और भार साधक अधिकारी एसडीएम ने ना तो 1 दिन पर निरीक्षण किया और ना ही मूर्ति विसर्जन के दिन लाइट लगा पाई।

जिससे रात में हो रही मूर्ति विसर्जन में काफी असमंजस की स्थिति बनी रही अगर पुलिस प्रशासन सही समय पर व्यवस्था ना संभालता तो कभी भी घटना घट सकती थी लेकिन नगर पंचायत प्रशासन द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया अंधेरे में रात में मूर्ति विसर्जन करवाया गया इसके अतिरिक्त धोविया तालाब काफी लंबे समय से गंदा मचा हुआ है ना तो तालाब की साफ सफाई करवाई गई।

प्रशासन की देखरेख के आभव कचरा घर में तब्दील होता तालाब प्रशासन द्वारा ना तो तालाब पर लाइटों की व्यवस्था की गई और ना ही तालाब की साफ सफाई 1 दिन पहले तालाब का निरीक्षण तक नहीं किया गया। जिससे तालाब में लोगों को मूर्ति विसर्जन करने में काफी तकलीफों का सामना करना पड़ा लोगों ने बताया कि तालाब पर मूर्ति विसर्जन करने में काफी समस्या का सामना करना पड़ा रात में हो रही मूर्ति विसर्जन में लाइट ना होने के कारण काफी समस्या हुई।

आगामी दशहरा व दीपावली को देखते हुए धुवैया तालाब के तट पर प्रत्येक वर्ष अस्थाई पोखरे की व्यावस्था की जाती है। जिसमें मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है। लेकिन इस बार प्रशासन ने इस बार प्रशासन कोई ध्यान नहीं दिया गया।