तीसरी लहर में वेंटीलेटर पर न आ जाए व्यवस्था, इसलिए जिला अस्पताल में 20 डाक्टरों सहित 10 वेंटीलेटर की मांग - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना की दूसरी लहर में हुई मौतो ने आमजन को झकझौर दिया हैं। अचानक से प्रकट हुई कोरोना की दूसरी लहर में हमे संभलने का मौका ही नही दिया,जब तक हम कुछ समझ पाते जब तक जिले के कई परिवारो को जिंदगी भर का दर्द दे गई। अब तीसरी लहर की खबरे भी आने लगी हैं और इसकी तैयारी जिले के स्वास्थय विभाग ने शुरू कर दी हैं। तीसरी लहर में बच्चो को खतरा बताया जा रहा है। इस कारण स्वास्थय विभाग ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

जिला अस्पताल में 20 डॉक्टरो और 10 वेंटीलेटर की मांग

जिला अस्पताल में विशेषज्ञ सहित 20 डॉक्टरों की मांग की है। बच्चों के लिए 10 वेंटीलेटर का प्रस्ताव शासन को भेजा है। जिला अस्पताल में चार बाल एवं शिशु रोग विशेषज्ञ की जरूरत है। ईएनटी सर्जन, स्पेशलिस्ट, दस मेडिकल ऑफिसर सहित कुल 20 डॉक्टरों की मांग शासन को भेजी है। इसे अलावा 32 खाली पदों पर वार्ड ब्वॉय का प्रस्ताव फिर से भेजा है। इसके अलावा बच्चों के लिए जरूरी दवाएं, कैनुला, दस वेंटीलेटर मांगे हैं।

मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में बन चुका हैं पीआईसीयू वार्ड

मेडिकल कॉलेज के हॉस्पिटल में बच्चों के लिए 10 बिस्तर का पीआईसीयू (पीडियाट्रिक इंटेन्सिव केयर यूनिट) वार्ड पहले ही तैयार हो गया है। जिला अस्पताल में भी बच्चों को भर्ती रखने के लिए 50 पलंगों की व्यवस्था की गई है। इन व्यवस्थाओं के साथ-साथ तीसरी लहर को फैलने से रोकने के भी इंतजाम भी किए जा रहे हैं।


संसाधन के अतिरिक्त मैनपावर की तैयारी भी

मेडिकल कॉलेज के हॉस्पिटल में स्टाफ नर्सों की भर्ती ऑनलाइन चल रही है। शासन को प्रस्ताव भेजकर 75 वार्ड बाॅय और 15 क्लेरिकल स्टाफ मांगा है जिसमें कंप्यूटर ऑपरेटर व क्लर्क की जरूरत है। दवाएं और इंजेक्शन उपलब्ध हैं। अन्य जांचें भी शुरू कराई जा रहीं हैं। सीटी स्कैन मशीन आने में अभी तीन महीने का वक्त लग जाएगा।

बच्चों की माता व अटेंडेंट के भी रुकने की व्यवस्था

मेडिकल कॉलेज के हॉस्पिटल के पीकू वार्ड के बच्चाें के संग माताओं को रुकने के लिए 10 पलंग की व्यवस्था अलग की गई है। जिला अस्पताल में 50 पलंग बच्चों के रखने के साथ माताओं व उनके अटेंडेंट को रुकने के लिए रैन बसेरे में व्यवस्था की जाएगी। सीएमएचओ ने इस संबंध में नपा सीएमओ को पत्र भी लिख दिया है।

करीब एक करोड़ का प्रस्ताव बनाकर भेजा है

तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने की आशंका है। इसलिए चार बाल एवं शिशु रोग विशेषज्ञ सहित अन्य डॉक्टर उपलब्ध कराने के लिए शासन काे मांग भेजी है। बच्चों के लिए दवाएं, कैनुला व अन्य जरूरी सामान आदि मिलाकर करीब एक करोड़ का प्रस्ताव बनाकर भेजा है।
डॉ. एएल शर्मा, सीएमएचओ

जीएमसी हॉस्पिटल में पीकू वार्ड बनाया है

मेडिकल कॉलेज के हॉस्पिटल में दस बेड का पीकू वार्ड बनाया है। बच्चों के संग माताओं को रुकने के लिए अलग से दस पलंग की व्यवस्था पीकू वार्ड के साथ की है। जिले में अभी कोई भी बच्चा संक्रमित होकर भर्ती नहीं हुआ है। हालांकि हमने पहले ही सारी तैयारियां कर ली हैं।
डॉ. अक्षय निगम, डीन, मेडिकल कॉलेज शिवपुरी