क्या शिवपुरी का नाम भगवान शिव के नाम से रखा गया था कि अंग्रेजों की जुबान फिसलने के कारण पड़ा - Ex-Rey @Lalit Mudgal

शिवपुरी समाचार डॉट कॉम।
आज महाशिव रात्रि हैं देवो के महादेव का दिन,आज महादेव के मंदिरो पर भीड रहेगी,पूजा अर्चना और अभिषेको दौर दिन-रात जारी रहेगा,लेकिन एक सवाल हम सबके मन में रहता हैं कि हमारे जिले का नाम शिवपुरी भगवान शिव के अनेको मंदिर होने के कारण पडा या अंग्रेजो की टंग स्लिप का नतीजा हैं। आईए सिपरी से शिवपुरी के नामांकरण और अंग्रेजो की इस टंग स्लिप का एक्सरे करते है।

लिखित में यह हैं सिपरी से शिवपुरी नामकरण का इतिहास

शिवपुरी का पुराना सीपरी था। इसे बदलकर 100 साल पहले शिवपुरी नाम रखा गया और इसके लिए तत्कालीन ग्वालियर रियासत के राजा माधौ महाराज ने गजट नोटिफिकेशन भी किया था। यह नाम परिवर्तन 1 जनवरी 1920 को किया गया था। हालांकि नई सीपरी का विकास 1835 में प्रारंभ हो चुका था।

1896 में नरवर से जिला मुख्यालय का सीपरी स्थानांतरण और 15 जुलाई 1900 में ग्वालियर राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने के बावजूद नया नामकरण इसके 20 साल बाद 1 जनवरी को ही किया गया था। माना जाता है कि शिवपुरी के नए नाम के साथ ही इसे विकसित करने के लिए इंजीनियर विश्वैश्वरैया ने डिजायन बनाया।


gwaliordivisionmp.nic.in के अनुसार मप्र शासन की इस अधिकृत बेबसाईड को हमने इस मामले को लेकर सर्च किया। इसमें सिपरी से शिवपुरी के नाम के सफर का उल्लेख मिलता हैं इसमें प्रकाशित किया हैं कि शिवपुरी को पहले सिपरी के नाम से जाना जाता था। इस जगह का इतिहास मुगल काल से है। शिवपुरी के घने जंगल एक समय में शाही शिकार के मैदान थे। समुद्र तल से 478 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं।

पौराणिक कथा के अनुसार, इस शहर का नाम भगवान शिव के नाम पर रखा गया है। 1804 तक यह शहर कच्छवाहा राजपूतों के स्वर्ग के रूप में जाना जाता था। उसके बाद यहाँ सिंधिया राजवंश द्वारा शासन किया गया। शिवपुरी के जंगलों में पहले मुगल सम्राटों के शिकार क्षेत्र थे,मप्र शासन के इस अधिकृत पोर्टल पर यह अवश्य लिखा गया हैं कि एक पैराणिक कथा के अनुसार इस शहर का नाम भगवान शिव के नाम पर रखा गया हैं लेकिन पैराणिक कथा का उल्लेख नही हैं।

घने जंगलो में छुपी नगरी को किसने खोजा

हम इस मामले को सर्च कर रहे थे। कई जगह पर यह मिला इस स्थान को सबसे पहले मुगल काल में खोजा गया। गुगल पर सर्च करते करते यह लिंक http://www.mponline.gov.in/Portal/Content/districts/Shivpuri_hi-in.html हमे मिली इसमें शिवपुरी के नाम के विषय के इतिहास से सबंधित एक लेख मिला। इस लेख के अनुसार वर्तमान में जिस स्थान पर शिवपुरी शहर बसा हैं उसे मुगलो ने खोजा हैं।

शिवपुरी पहली बार 1564 में उस वक्त अस्तित्व में आया जब मुगल बादशाह अकबर ने यहां विश्राम करना शुरु किया। ग्वालियर राज्य के समय नरवर जिला था। शिवपुरी 1804 तक कछवाहा राजपूतों के आधिपत्य में था। इसके बाद इस पर सिंधिया राजघराने का कब्जा हो गया। 1817 में इस पर अंग्रेजों ने कब्जा जमाया तथा इसके एक साल बाद पुनः सिंधिया को वापस कर दिया जो ग्वालियर राज्य का हिस्सा रहा। खडेराव रासो में भी उल्लेख मिलता हैं कि मुगलो ने यहां कई दिनो तक रूककर शिकार किया हैं।

अगर यह माना जाए कि 1817 मे शिवपुरी अंग्रेजो के अधीन थी तो उनकी टंग स्लिप के कारण वह सिपरी को शिवपुरी करने लगे हो और यह भगवान शिव के नाम से होने के कारण पंसद आया हो,अब इसी मामले को लेकर शिवपुरी के शिव मंदिरो की ओर चलते हैं।

आदि मानव काल के शैलचित्रो में मिलती हैं शिव की आकृति

भगवान शिव के नाम पर इस नगर का नाम शिवपुरी शायद इसलिए पड़ा क्योंकि यहां शिवजी के मंदिर अधिक हैं और शिव आराधना का यह जिला प्राचीनकाल से ही केंद्र रहा है।

आदि मानव के द्वारा बनाए गए शिवपुरी के शैलचित्रों में भी एक जगह पर त्रिशूल का विशाल रेखांकन कर पास ही सींगधारी नृत्यरत पुरुषाकृति है, जिसके एक हाथ में डमरू लिए दिखाया गया है। यह पशुपति शिव की आकृति है।

नाग राज्य की सीमाओ से लगा था अपना शिवपुरी

नाग राज्य एक संघ राज्य था जो विदिशा, नागावध (नागोद) पद्मावती (पवा) कांतिपुरी (कुतवारा) नरवर के भागो में विभक्त था। नागराजा शैव मतालंबी थे। उनकी नाग स्थापत्य कला उच्चकोटि की थी। दो सर्पों के मध्य शिवलिंग नागों का राज चिन्ह था। नरवर एवं पवा से भीमनाग, खुर्जरनाग, वत्स, स्कंधनाग, वृहस्पतिनाग, गणपतिनाग, व्यघ्रनाग, वसुनाग और देवनाग ने क्रमश: 1 ईसवीं से 220 ईसवीं तक राज किया।

गुरू गोरखनाथ का मंदिर हैं प्रमाण

शिवपुरी में सिद्धेश्वर मंदिर व हुसैन टेकरी के बीच एक नाथ संप्रदाय के गुरू गोरखनाथ का मंदिर है,इस मंदिर पर गुरू गोरखनाथ की मुर्ति पर संवत 1064 अंकित हैं,वर्तमान में विक्रम संवत 2077 चल रहा हैं इससे यह प्रमाणित होता हैं कि यह मंदिर 1 हजार से अधिक पुराना हैं। इस मंदिर में शिवलिंग भी स्थापित हैं।

कोलारस का केलधार तथा जिले भर में अनेक प्राचीन शिवमंदिर इसी समय के हैं। नाथ संप्रदाय कापालिक मत का ही सुधरा हुआ रूप था। नाथ संप्रदाय शैव मतावलंबी था। शिवपुरी जिले में शैव साधुओं ने अनेक शिव मंदिर बनवाए, जिनमें रन्नौद, सुरवाया, तेरही और गुना कदवाया (कदंबगुहा) का मंदिर प्रमुख हैं।

इनके अलावा शिवपुरी जिले में 10वीं व 11वीं शताब्दी के कई शैव मंदिर हैं। जिनमें खैरागांव, भीमपुर, राई, बड़दी, सेसई, बलारपुर, पहाड़ी, थरखेड़ा, नरवर के झिरना, कालीपहाड़ी, सुभाषपुरा, ख्यावदाकलां, पिपरघार आदि स्थानों पर प्राचीन शिव मंदिरों के अवशेष हैं। जब भी कोई साधू समाधि लेता था, उसके अंतिम संस्कार के स्थान पर शिवलिंग की स्थापना की परंपरा रही है।

यहां के अंतिम शासक सिंधिया राजवंश के लोग भी शिव उपासक ही थे। उनके द्वारा भी जहां-जहां छत्रियां आदि बनवाई गईं हैं, वहां शिवमंदिर की स्थापना भी की गई है,और एक प्रमाणित है कि तत्कालीन ग्वालियर रियासत के राजा माधौ महाराज ने गजट नोटिफिकेशन में यह नाम परिवर्तन 1 जनवरी 1920 को किया गया था,इससे पहले शिवपुरी को सिपरी कहते थे।