प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं को कम खर्च पर कोचिंग उपलब्ध कराई जाएगी - Shivpuri News

शिवपुरी। शहर के पुरानी शिवपुरी नीलगर चौराहे पर रविवार की दोपहर 12 बजे खंगार क्षत्रिय समाज उत्थान समिति बैठक आयोजित हुई। बैठक में समिति के सदस्यों ने बच्चों की शिक्षा पर विशेष जोर देने की बात कही। हाल ही में पुलिस भर्तियां सहित शासकीय सेवा में जाने के इच्छुक हैं, लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने से सफल नहीं हो पाते।

ऐसे युवाओं को कम से कम खर्च पर कोचिंग सुविधा उपलब्ध कराने पर बैठक में सहमति बनी। ताकि युवाओं के लिए सफलता की राह आसान हो सके। बैठक में रिटायर उप निरीक्षक मलखान सिंह परिहार ने कहा कि खान-पान की हर चीज में जहां मिलाटव हो रही है।

ज्यादा फसल पैदावार लेने के लिए लोग कीटनाशक दवाएं और यूरिया को जरुरत से ज्यादा उपयोग कर रहे है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए घातक है। लिए यूरिया व कीटनाशक बंद करके समाज के किसानों को जैविक खेती के लिए आगे लाएं।

वरिष्ठ समाजसेवी डॉ परमानंद परिहार ने बताया कि जैविक खेती बेहतर विकल्प है और इसके लिए उन्नतशील किसानों को आगे जाना चाहिए। कृषि कार्य समिति अगले महीने की बैठक में गठित करके किसानों को संगठित किया जाएगा।

बैठक के दौरान दो मिनिट का मौन रखकर पुलवामा में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। पर्यावरण संरक्षण के लिए ईगल सिक्योरिटी कंपनी के एमडी राजाभैया परिहार ने बताया कि उन्होंने 1 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है।

कई लोग शामिल हुए, अब अगली बैठक 14 मार्च को

अगले महीने की मासिक बैठक 14 मार्च को नीलगर चौराहे पर ही रखी जाएगी। स्पोर्ट्स टीचर गब्बर सिंह परिहार और रिटायर फाैजी बलवीर मिर्धा ने बताया कि अगली बैठक में युवाओं की टीम तैयार करेंगे जो शिवपुरी शहर में घर-घर जाकर संपर्क करेगी।

समाज उत्थान समिति की रीति-नीति और उद्देश्यों से अवगत कराएगी। बैठक में फॉरेस्ट से रिटायर बाबू टेकसिंह, मजबूतसिंह, शिवसिंह, एडव्होकेट नरेंद्र सिंह, शिशुपाल, भगतजी, रामहेत, मानसिंह, राजकुमार सिंह, गोलू, बैजनाथसिंह आदि मौजूद थे।

समिति ने आठ उद्देश्य निर्धारित किए, इन पर काम होगा

बैठक में बनी समिति के आधार पर समिति आठ उद्देश्य लेकर कार्य करेगी। समाज में बच्चों की बेहतर शिक्षा पर ध्यान दिया जाएगा। हर परिवार तक पहुंच बनाने के लिए संगठन विस्तार जारी रहेगा। समाज की उभरती प्रतिभाओं को आगे लाया जाएगा।

समाज में शराब, दहेज प्रथा आदि कुरीतियां बंद कराने पर काम होगा। आपसी छोटे-छोटे गिले शिकवे भुलाकर समाज में सौहार्द लाया जाएगा, परिवारों की अार्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए योजना बनाई जाएगी और बेरोजगार युवओं को रोजगार से जोड़ने के लिए काम किया जाएगा।