सिंध जलावर्धन योजना की सफलता पर ग्रहण: पूरे 125 करोड रूपए पीने वाली योजना 47 घरो को नही दे पा रही है पानी

शिवपुरी। शहर के प्यासे कंठो की प्यास बुझाने वाली योजना पर लगातार ग्रहण लगता रहता हैं। इस योजना ने अपनी पूर्णता के कई उतार चढाव देखे हैं,अपनी समय सीमा से लगभग 10 साल लेट चल रही इस योजना की सफलता की अभी भी गारंटी नही हैं। पूरे 100 करोड से अधिक रूपए पीने के बाद भी इस योजना से 47 घरो को पानी सुचारू रूप से नही मिल रहा हैं।

जैसा कि विदित हैं कि शहर के वार्ड क्रमांक दो में स्थित विवेकानंद कालोनी ही एक मात्र ऐसी कॉलोनी है जहां पर 47 घरों में सिंध के कनेक्शन हुए हैं। शुक्रवार की देर शाम जब कालोनी में सप्लाई शुरू की तो नलों में पानी आने की बजाय डिस्ट्रीब्यूशन लाइन लीक हो गई। अब कनेक्शन करने वाली टीम अपना काम छोड कर लीकेज को सुधारने के लिए गडढा खोदकर बैठ गए।

गौरतलब है कि शिवपुरी शहर में सिंघ जलावर्धन योजना के तहत अभी तक सिर्फ एक मात्र गांधी पार्क की टेस्टिंग के बाद उससे संबंधित विवेकानंद कालोनी में नलों का कनेक्शन किया गया है। इसमें जब 47 कनेक्शन हो गए तो शुक्रवार की शाम को पहली बार उन नलों में पानी देने के लिए डिस्ट्रीब्यूशन लाइन में सप्लाई शुरू की गई। जिन घरों में नल लगे थे,वे परिवारजन खुश थे।

अब उनके घरों में सिंघ का पानी आने लगेगा, लेकिन ऐसा हो नहीें सका, बल्कि नल सूखे ही रह गए क्योंकि उनके घरों तक पानी बर्बाद हो गया। कॉलोनी तक डाली गई डिस्ट्रीब्यूशन लाइन दो जगह से लीेेक हो गई, जिसके चलते नलों तक पानी नहीं पहुंच पाया।

इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे कि पहले तो मेन पाइप तो मेन पाइप लाइन लीक हो रही थी, लेकिन अब शहर में डाली गई डिस्ट्रब्यूशन लाइन के पाइप भी लीक होने लगे हैं, ऐसे में सिंघ का पानी घरों तक पहुंच पाएगा, इसमें संशय ही बना हुआ है।