1 सितंबर से शुरू होगी बच्चो की पढाई: सिंगापुर-फिनलैंड की तर्ज पर बनी हैं नई शिक्षा नीति, पढ़िए जानकारी भरी खबर

शिवपुरी। कोरोना काल में स्कूल लॉक हो गए मार्च से अगस्त तक बच्चो की पढाई बंद हैं,अब अनलॉक शुरू हो चुका हैं। कक्षा से 9-12 तक के बच्चो के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल ने पढाई के लिए नई गाईड लाईन जारी की है। 1 सितंबर से स्कूल नही खुलेंगें लेकिन एप के जरिए ही अब बच्चों की पढाई और परीक्षा होगीं। 

सरकारी स्कूलों में में छात्रों की प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो गई है लेकिन निजी विद्यालयों में तो अभी प्रवेश प्रक्रिया ही अधूरी है । ऐसे में माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड के अध्यक्ष राधेश्याम जुलानिया द्वारा नवीन शिक्षा नीति को कब  और कैसे अमल में लाना है इस बाबत रणनीति तैयार कर जारी की है ।

जिसमें हाई स्कूल , हायर सेकंडरी स्कूल में अध्यापन कार्य करा रहे शिक्षक चाहे वह शासकीय शिक्षक हो या फिर अशासकीय विद्यालय में पढ़ाता हो । उन्हें एमएएसएचआईएम अर्थात माशिमं एप को प्ले स्टोर से डाउन लोड करना अनिवार्य होगा। छात्र और शिक्षक को इस पर अपना पंजीयन कराना होगा। सभी तरह की पाठय सामग्री,इंटरनल असेस्मेंट आदि की प्रक्रिया भी इसी एप से रहेगी।

हर सात दिन में होगा असेस्मेंट होगा
इसमें छात्र को पंजीयन के बाद 1 सितंबर से हर सात दिन में उसकी पढ़ाए गए पाठ के असेस्मेंट होंगे। जिसमें छात्र को 85 फीसदी अंक लाना अनिवार्य होगा। छात्र को कितने अंक मिले इसका रिकॉर्ड भी शिक्षक को माशिमं एप पर जारी करनी होगी ।

यदि शिक्षक मूल्यांकन में गलती करता है तो उसको बोर्ड के मूल्यांकनकर्ता से अलग कर दिया जाएगा और यदि छात्र फेल होता है तो उसे एक हफ्ते का समय दिया जाकर फिर से परीक्षा ली जाएगी । यदि उसने इंटरनल एसेसमेंट सबमिट नहीं किया तो फिर उसका नामांकन निरस्त कर दिया जाएगा और वह आगे नहीं पढ़ सकेगा। इस सेमीनार में जिला शिक्षा अधिकारी दीपक पांडे जिला समन्वयक प्राचार्य विवेक श्रीवास्तव और उत्कृष्ट के प्राचार्य सहित चुनिंदा निजी स्कूलों के प्राचार्य संचालक भी शामिल हुए ।

सिंगापुर,फिनलैंड की तर्ज पर है नई शिक्षा नीति
सिंगापुर और फिनलैंड की तर्ज पर यह नई शिक्षा नीति बनी है । जिसमें विद्यार्थी का सर्वांगीण विकास होगा । उसे सिर्फ पढ़ा हुआ विषय ही नहीं पूछा जाएगा वरन कुछ एप्लीकेशन बेस प्रश्न भी इसमें होंगे जिससे छात्रों के भविष्य का आंकलन भी हो सकेगा । भले ही यह ओपन बुक सिस्टम जैसा पैटर्न हो । लेकिन कोविड -19 का खतरा लंबा चलता है तो भी इस सिस्टम से 9-12 के विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षित किया जा सकेगा।
दीपक पांडे,जिला शिक्षा अधिकारी शिवपुरी

नई शिक्षा नीति के अहम बिंदु -
बताया जा रहा हैं कि 1 सितंबर से शिक्षण सत्र की ऑनलाइन शुरुआत होगी,शिक्षको को 6 महीने के अंदर कोर्स खत्म करना होगा। 1 यूनिट के लिए 15 दिन का समय निर्धारित किया गया। प्रत्येक यूनिट का बोर्ड द्वारा ऑनलाइन असेस्मेंट किया जाएगा। पेपर सीधे छात्र के मोबाइल पर भेजा जाएगा। पेपर 100 अंक का होगा जिसमें 30 ऑब्जेक्टिव, 10 प्रश्न 3 अंक के और 10 प्रश्न 4 अंक के होंगे ।

पेपर हल करने के बाद छात्र उत्तरपुस्तिका अपने विद्यालय में जमा करेंगे। विद्यालय के शिक्षक उत्तर-पुस्तिका का मूल्यांकन करने के बाद अंक बोर्ड की साइट में मोबाइल एप के माध्यम से भेजेंगे । इस प्रकार 70 प्रतिशत अंक विद्यालय द्वारा भेजे जाएंगे तथा 30 प्रतिशत अंक हेतु बोर्ड परीक्षा होगी। इंटरनल एसेसमेंट के 70 अंक और बोर्ड परीक्षा के 30 अंकों को जोड़ कर रिजल्ट तैयार किया जाएगा।