शिवपुरी में कचरे के पहाड़ों में आग, वातावरण में जहरीली हवाओं का कब्जा सांस लेना भी मुश्किल- Shivpuri News

शिवपुरी।
विवादों में रहने वाली शिवपुरी नगर पालिका का एक कारनामे के कारण वातावरण में जहरीली हवाओं का कब्जा हो गया हैं। पिछले 24 घंटों से बडौदी स्थित ट्रेंचिंग ग्राउंड में लगे कचरे के ढेर में आग सुलग उठ रही हैं जिससे उठता हुआ उंचा धुआ वातावरण में घुलकर जिंदा इंसानो की सांसो में समा कर रहा हैं। नगर पालिका के किसी कर्मचारी या किसी कारण इन ढेरो में आग लगा कर छोड दी हैं।

हालात यह हैं कि बीचों बीच स्थित ट्रेचिंग ग्राउंड के ढेरों से उठ रहे धुएं से बड़ौदी बस्ती, सर्किल जेल और सीआरपीएफ के सीआईएटी स्कूल 24 घंटे प्रदूषण की चपेट में है। बदलती हवाओं के साथ धुएं और दुर्गंध फैलने से हजारों लोगों का रहना मुहाल हो रहा है।

मशीनें हो गई कचरा, कचरे के पहाड़ खत्म करने लगा दी आग

नगर पालिका ने चार साल पहले ट्रेंचिंग ग्राउंड के अंदर कचरा से पॉलीथिन अलग करने स्ट्रक्चर बनाकर फटका मशीन और इलेक्ट्रिक छलना मशीन लगा दी। एक साइड फ्लड सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी स्थापित कर दिया। मौजूदा हालात में मशीनों का कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा है। हालात यह हैं कि अंदर कचरा इतना अधिक हो गया है कि बाउंड्री के बाहर ढेर लगना शुरू हो गए हैं। पूरे शहर से निकलने वाले कचरे को व्यवस्थित करने की मौजूदा समय में कोई प्रयास नहीं हो रहे हैं।

कचरे में धातु खोज रहे है बच्चे ओर महिलाएं

ट्रेचिंग ग्राउंड के अंदर सुलग रहे कचरे के ढेरों में आदिवासी महिलाएं व बच्चे जान जोखिम में डालकर लोहाए तांबा व प्लास्टिक ढूंढ रहे हैं। चार पैसों के लालच में अपनी जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं। खास बात यह है कि नगर पालिका ने यहां ट्रेचिंग ग्राउंड प्रभारी मनोज लाहोरी व दो चौकीदार नियुक्त किए हैं। लेकिन रविवार की दोपहर मौके पर कोई भी मौजूद नहीं था। भोजन की तलाश में कई गाय कचरे के ढेरों में मुंह मार रहीं थीं।

एक साल पूर्व चाय पिलाने का किया था दावा

एक साल पहले नगर पालिका ने कलेक्टर और एसपी को ट्रेचिंग ग्राउंड दिखाया था। हरियाली बढ़ाकर ग्राउंड को ऐसा बनाने का दावा किया था कि यहां बैठकर चाय पी सकते हैं। लेकिन एक साल बाद हालात हद से ज्यादा बिगड़ गए हैं।

पूर्वी हवा चलने से सांस लेना मुश्किल हो रहा

पूर्वी हवा चलने से सारा धुंआ और बदबू सर्किल जेल के अंदर भर जाती है। धुएं की वजह से कैदियों सहित स्टाफ को सांस लेना मुश्किल हो जाता है। बदबू के साथ मक्खियां इतनी अधिक रहती हैं कि खाना खाने की इच्छा नहीं होती। किचिन के बीच गैप होने से मक्खियां आ जाती हैं। अलग से जाली लगाने की तैयारी कर रहे हैं। निरीक्षण करने आने वाले जजों को भी समस्या से अवगत कराया है। कलेक्टर को कई पत्र लिख चुके हैं, अभी तक कोई समाधान नहीं निकला है।ष् .
रमेश आर्य, अधीक्षक, सर्किल जेल शिवपुरी

धुएं से जवानों का दम घुटने लगता है

ट्रेचिंग ग्राउंड की बदबू हमारे कैंपस में फैल जाती है। ट्रेनिंग लेने वाले जवानों का धुएं की वजह से दम सा घुटने लगता है। कलेक्टर को पहले ही कई लेटर लिख चुके हैं। शुक्रवार को फिर से लेटर लिखकर अवगत कराया है। हमारे यहां खेल मंत्री भी दौरे पर आईं थीं, उनको भी समस्या से अवगत करा चुके हैं।.
सुरेश कुमार यादव, कमांडेंट,CIAT स्कूल सीआरपीएफ शिवपुरी

प्रस्ताव शासन को भेजा है, लेकिन अभी बजट नहीं आया

ट्रेचिंग ग्राउंड पर डंप कचरे को खत्म करने के लिए हमने प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा है। लेकिन अभी तक बजट नहीं मिल पाया है। राशि मिलते ही हम कचरे का निपटान करा देंगे।
शैलेश अवस्थी' सीएमओ नगर पालिका शिवपुरी